रविवार, 27 दिसंबर 2015

विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन जोधपुर मे 6 जनवरी 2016


जय श्री कृष्णा मित्रों आप सभी को यह जानकारी देते हुए बहुत हर्ष हो रहा है की हमेशा की तरह इस बार भी आने वाली 6 जनवरी 2016 को साँवरिया और जोधपुर शहर माहेश्वरी महिला संगठन के संयुक्त तत्वावधान में विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन जोधपुर मे किया जाएगा | आप सभी मित्रों एवं स्वेच्छिक रक्तदाताओ से अनुरोध है की इस महान कार्य को सफल बनाने हेतु अधिक से अधिक संख्या मे भाग ले और सभी फ़ेसबुक और व्हाट्सअप ग्रूप मे प्रसारित कर इसे सफल बनान्ये मे अपना महत्वपूर्ण योगदान देवे.


साभार डॉ. नीलम जी मूंदड़ा
जोधपुर शहर माहेश्वरी महिला संगठन

निवेदनकर्ता
कैलाशचंद्र लढा
संस्थापक - साँवरिया

रविवार, 20 दिसंबर 2015

चमत्कारी औषधि तेजपात

एक साधारण सी दिखने वाली तेजपात का लाभ आपको चमत्कृत कर देगा -
तेजपात के औषधीय गुण:-
तेजपात के 5-6 पत्तों को एक गिलास पानी में इतने उबालें की पानी आधा रह जाए -इस पानी से प्रतिदिन सिर की मालिश करने के बाद नहाएं -इससे सिर में जुएं नहीं होती हैं जी हाँ महिलाओं के लिए एक उत्तम जूं नाशक है- .
चाय-पत्ती की जगह तेजपात के चूर्ण की चाय पीने से सर्दी-जुकाम,छींकें आना ,नाक बहना,जलन ,सिरदर्द आदि में शीघ्र लाभ मिलता है -
तेजपात के पत्तों का बारीक चूर्ण सुबह-शाम दांतों पर मलने से दांतों पर चमक आ जाती है -
तेजपात के पत्रों को नियमित रूप से चूंसते रहने से हकलाहट में लाभ होता है -
एक चम्मच तेजपात चूर्ण को शहद के साथ मिलाकर सेवन करने से खांसी में आराम मिलता है -
तेजपात के पत्तों का क्वाथ (काढ़ा) बनाकर पीने से पेट का फूलना व अतिसार आदि में लाभ होता है -
इसके 2-4 ग्राम चूर्ण का सेवन करने से उबकाई मिटती है -
दमा में - तेजपात ,पीपल,अदरक, मिश्री सभी को बराबर मात्र में लेकर चटनी पीस लीजिए और 1-1 चम्मच चटनी रोज खाएं 40 दिनों तक। फायदा सुनिश्चित है।
दांतों के लिए - सप्ताह में तीन दिन तेजपात के बारीक चूर्ण से मंजन कीजिए। दांत मजबूत होंगे, दांतों में कीड़ा नहीं लगेगा ,ठंडा गरम पानी नहीं लगेगा , दांत मोतियों की तरह चमकेंगे।
कपड़ों के बीच में तेजपात के पत्ते रख दीजिए ,ऊनी,सूती,रेशमी कपडे कीड़ों से बचे रहेंगे। अनाजों के बीच में 4-5 पत्ते डाल दीजिए तो अनाज में भी कीड़े नहीं लगेंगे। उनमें एक दिव्य सुगंध जरूर बस जायेगी।
अनेक लोगों के मोजों से दुर्गन्ध आती है ,वे लोग तेजपात का चूर्ण पैर के तलुवों में मल कर मोज़े पहना करें। पर इसका मतलब ये नहीं कि आप महीनों तक मोज़े धुलें ही न। वैसे भी अंदरूनी कपडे और मोज़े तो रोज धुलने चाहिए। मुंह से दुर्गन्ध आती है तो तेजपात का टुकड़ा चबाया करें। बगल के पसीने से दुर्गन्ध आती है तो तेजपात का चूर्ण पावडर की तरह बगलों में लगाया करें।
अगर अचानक आँखों कि रोशनी कुछ कम होने लगी है तो तेजपात के बारीक चूर्ण को सुरमे की तरह आँखों में लगाएं। इससे आँखों की सफाई हो जायेगी और नसों में ताजगी आ जायेगी जिससे आपकी दृष्टि तेज हो जायेगी। इस प्रयोग को लगातार करने से चश्मा भी उतर सकता है।
पेट में गैस की वजह से तकलीफ महसूस हो रही हो तो ३-४ चुटकी या ४ मिली ग्राम तेजपात का चूर्ण पानी से निगल लीजिए। एसीडिटी की तकलीफ में इसका लगातार सेवन बहुत फायदा करता है और पेट को आराम मिलता है।
तेजपात का अपने भोजन में लगातार प्रयोग कीजिए ,आपका ह्रदय मजबूत बना रहेगा ,कभी हृदय रोग नहीं होंगे।
पागलपन के लिए -एक एक ग्राम तेजपात का चूर्ण सुबह शाम रोगी को पानी या शहद से खिलाएं।या तेजपात के चूर्ण का हलुआ बनाकर खिलाएं। सूजी के हलवे में एक चम्मच तेजपात का चूर्ण डाल दीजिए। बन गया हलवा।
तेजपात के टुकड़ों को जीभ के नीचे रखा रहने दें ,चूसते रहे। एक माह में हकलाना खत्म हो जाएगा।
दिन में चार बार चाय में तेजपत्ता उबाल कर पीजिए ,जुकाम-जनित सभी कष्टों में आराम मिलेगा। या चाय में चायपत्ती की जगह तेजपत्ता डालिए। खूब उबालिए ,फिर दूध और चीनी डालिए।
पेट की किसी भी बीमारी में तेजपत्ते का काढा बनाकर पीजिए। दस्त, आँतों के घाव, भूख न लगना सभी में आराम मिलेगा।

कायाकल्प योग --सर्व रोग दूर करे -

कायाकल्प योग --सर्व रोग दूर करे ---
बुढ़ापे की आई सभी तरह की कमजोरी को दूर करता है ये योग
भृंगराज और काले तिल 250-250 ग्राम आवला 125 ग्राम लें।
सबको अलग अलग पीस छान कर 500ग्राम पुराना गुड अथवा शक्कर मिला कर प्रात 2 टेबल स्पून यानि 12 ग्राम सेवन करें। ( शुगर रोग वाले शक्कर नहीं मिलाये )
सर्व रोग दूर होते हैं।
अगर एक वर्ष खाएं तो अँधा देखने गूंगा बोलने और बहरा सुन ने लग जाता है। सफेद बाल काले हो जाते हैं। जिस के दांत गिर गये हैं फिर से आ जाते हैं। आयु दीर्घ होती है। बल बुद्धि वीर्य बढ़ता है।
इसको दूध के साथ लेना है ..पानी के साथ भी ले सकते है |
इसके सेवन काल में यद्यपि दुग्धपान का विधान है पर जिन्होंने इसका सेवन किया उन्होंने दूध भात लिया था।
इस प्रयोग से झुर्रियां मिट जाती है।
केश जङ से काले निकलते हैं।
श्रवण शक्ति बढती है वाणी विकार दूर होते हैं। स्मरणशक्ति अद्भुत हो जाती है।
नेत्र विकार दूर हो कर नेत्रज्योति बढ़ जाती है।
एक महीने के बाद लाभ होने लगता है।
सभी प्रकार के उदरमय रोग ठीक हो जाते हैं।
तीन महीने में वाणी मधुर हो जाती है। स्मरणशक्ति बढ़ जाती है। शारीरिक पीड़ा जोड़ों का दर्द अनिद्रा और चिडचिडापन मिट जाता है।
हर घटक द्रव्य शुद्ध और ताजा ही लें और इस सरल योग का लाभ उठायें।
कोई भी व्यक्ति ले सकता है |

मस्तिष्‍क की शक्ति बढ़ाने के उपाय

आयुर्वेद के जरिये मस्तिष्‍क की शक्ति बढ़ाने के उपाय

कई बार शारीरिक और मानसिक दुर्बलता या किसी लम्बी बीमारी के कारण मस्तिष्‍क पर असर पड़ने लगता है और हमारी स्मरण शक्ति कम हो जाती है। आइए इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से जानें कि आयुर्वेद के जरिये मस्तिष्‍क की शक्ति को कैसे बढ़ा सकते हैं।


आयुर्वेद और मस्तिष्‍क

अगर हमारा शरीर एक मंत्रालय है, तो मस्तिष्‍क उसका प्रधानमंत्री। इसकी मर्जी के बिना शरीर का कोई भी हिस्‍सा सही प्रकार काम नहीं कर सकता। कई बार अत्यधिक मानसिक परिश्रम व थकान, पाचन संस्थान की गड़बड़ी, शारीरिक और मानसिक दुर्बलता या किसी लम्बी बीमारी के कारण मस्तिष्‍क पर असर पड़ने लगता है और हमारी स्मरण शक्ति कम हो जाती है। आइए इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से जानें कि आयुर्वेद के जरिये मस्तिष्‍क की शक्ति को कैसे बढ़ा सकते हैं।

बादाम

बादाम मे पाये जाने वाले आयरन, कॉपर, फास्फोरस और विटामिन बी यह सभी औषधीय तत्व एक साथ क्रिया करते है। इसलिए बादाम मस्तिष्‍क, दिल और लीवर को ठीक से काम करते रहने मे मदद करता है। मस्तिष्‍क की शक्ति बढ़ाने के लिए पांच बादाम रात को पानी में भिगों दें। सुबह छिलके उतारकर बारीक पीस कर पेस्ट बना लें। अब एक गिलास दूध और उसमें इस पेस्‍ट को और दो चम्मच शहद को डालकर पी लें इससे आपको बहुत फायदा होगा।

ब्राह्मी

ब्राह्मी दिमागी शक्ति बढ़ाने की मशहूर जड़ी-बूटी है। ब्राह्मी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट तत्व के कारण इसके नियमित सेवन से मस्तिष्‍क की शक्ति बढऩे लगती है। इसका एक चम्मच रस रोज पीना लाभदायक होता है। अगर आपको इसका रस पसंद नहीं है तो आप इसको चबाकर भी खा सकते है इसके 7 पत्ते खाने से भी वही लाभ मिलता है।

अलसी का तेल

अलसी का तेल आपकी एकाग्रता को बढाता है, मस्तिष्‍क की शक्ति को तेज करता है तथा सोचने समझने की शक्ति को भी बढ़ाता है। नियमित रूप से अलसी के तेल के सेवन से आपको मस्तिष्क सम्बन्धी कोई विकार नहीं होता।

सौंफ

सौंफ प्रतिदिन घर में प्रयोग किए जाने वाले मसालों में से एक है। इसका नियमित उपयोग सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। सौंफ और मिश्री को बराबर मात्रा में मिलाकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को दो चम्मच दोनों समय भोजन के बाद लेते रहने से मस्तिष्क की कमजोरी दूर होती है।

अखरोट

अखरोट में ओमेगा -3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं। इसमें मैगनीज, तांबा, पोटेशियम, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक और सेलेनियम जैसे मिनरल्स भी पाये जाते हैं। अखरोट विटामिन ई का बहुत अच्छा स्रोत हैं, जो हमारे मस्तिष्क के लिए काफी फायदेमंद होता हैं।

दालचीनी

दालचीनी सिर्फ गर्म मसाला ही नहीं, बल्कि एक औषधि भी है। यह कमजोर मस्तिष्‍क की अच्‍छी दवा है। रात को सोते समय नियमित रूप से एक चुटकी दालचीनी पाउडर को शहद के साथ मिलाकर लेने से मानसिक तनाव में राहत मिलती है और मस्तिष्‍क की शक्ति बढ़ती है।

जायफल

अपनी गर्म तासीर के कारण बहुत थोड़ी मात्रा में उपयोग होने वाला जायफल के सेवन से मस्तिष्‍क बहुत तेज बनाता है। इसको खाने से आपको कभी एल्‍जाइमर यानी भूलने की बीमारी नहीं होती।

काली मिर्च

छोटी सी दिखने वाली काली मिर्च खाने के स्‍वाद को बढ़ाने के साथ औषधीय गुणों से भरपूर भी है। मस्तिष्क की कमजोरी दूर करने एवं स्मरण शक्ति बढ़ाने में काली मिर्च लाभप्रद होती है। 25 ग्राम मक्खन में 5-6 कालीमिर्च मिलाकर नित्य चाटने से मस्तिष्‍क तेज होता है।

पतली आइब्रो वाले अपनाएं ये घरेलू नुस्खे



आइब्रो को निखारे घरेलू अंदाज

चेहरे की खूबसूरती को बढ़ाने में आइब्रो का महत्वपूर्ण योगदान होता है। आइब्रो अव्यवस्थित या बहुत ज्यादा मोटी या पतली होने पर चेहरा विचित्र लगने लगता है। यदि आपकी आइब्रो भी पतली हैं और आप इनसे छुटकारा पाना चाहते हैं तो आपको पार्लर जाने या कोई महंगी सर्जरी कराने की जरूरत नहीं, क्योंकि कुछ सस्ते घरेलू नुस्खों की मदद से इन्हें ठीक किया जा सकता है।

जैतून का तेल

जैतून का तेल असाधारण प्राकृतिक पौष्टिक उत्पाद है। नियमित रूप से अपने आइब्रो पर जैतून के तेल की मालिश करने से वे मोटी और सुंदर बनती हैं।

दूध

दूध या इससे बने उत्‍पादों में विटामिन और प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता है। अपनी आइब्रो पर उसके आस पास की जगहों पर रात को सोने से पहले रूई को दूध में भिगो कर लगाने से उन्हें प्रोटीन और विटामिन मिलता है और वे सुंदर बनती हैं।

कैस्टर ऑयल

आइब्रो पर नियमित रूप से कैस्टर ऑयल लगाने से आइब्रो की मोटाई बढ़ती है और वे सुंदर बनती हैं। कैस्टर ऑयल आइब्रो ठीक करने का एक सस्ता व प्रभावी घरेलू उपाय है।

पेट्रोलियम जेली

वैसलीन लगाने से अपकी आइब्रो कंडीशंड और नम बनती हैं। पेट्रोलियम जेली से आपकी आइब्रो के बाल सीधे और मजबूत बनते हैं। आप दिन में दो-तीन बार आइब्रो में वैसलीन लगाकर इन्हें मोटा और संदर बना सकते हैं।

मेथी

नहाने से पहले या रात को सोने से पूर्व मेथी को पीस कर अपनी आई ब्रो पर लगाएं। आप इसका पेस्ट बनाकर बादम के तेल मं मिलाकर भी लगा सकते/सकती हैं। इसे लगाने से आपकी आइब्रो की त्‍वचा को नमी मिलेगी।

नारियल तेल

नारियल का शुद्ध तेल बालों के लिए लाभदायक होता है। इसे लगाने से आइब्रो मोटी होती हैं। इससे न सिर्फ आइब्रो के बाल तेजी से बढ़ते हैं बल्कि उनकी शेप भी बेहतर बनती है।

प्याज का रस

प्याज में सल्फर प्रचुर मात्रा में होता है। जो ब्लड सर्कुलेशन को बेहत बनाता है। प्याज का रस आइब्रो पर लगाने से उनके बालों को तेजी से बढ़ने में मदद मिलती है। नियमित रूप से प्याज का रस आइब्रो पर लगाने पर जल्द ही मोटी आइब्रो प्राप्त होती हैं।

एलोवेरा

एलोवेरा आइब्रो ही नहीं शरीर की तकरीबन हर समस्या के लिए लाभदायक होता है। इसकी ताजी पत्‍तियों को छील कर उसके अंदर के गूदे को अपनी आई ब्रो पर लगाने से आई ब्रो की ग्रोथ अच्छी होती है।

अंडे की जर्दी

रूई के फोहे से अंडे की जर्दी को आइब्रो पर लगाने से आइब्रो के बाले तेजी से बढ़ते हैं और उनकी शेप भी अच्छी होती है। अंडा में प्रोटीन काफी मात्रा में होती है जो बालों को बढ़ने में मदद करता है।

आयुर्वेद के अनुसार दूध पीने के नियम

आयुर्वेद के अनुसार दूध पीने के कुछ नियम

कुछ लोगों को दूध पीने के बाद हजम नहीं हो पाता। उन्‍हें पेट फूलने या फिर बार खराब होने की समस्‍या से जूझना पड़ता है। आयुर्वेद के अनुसार दूध पीने के कुछ नियम हैं, जिनका पालन करने से आपको दूध हजम हो जाएगा।

1
आयुर्वेद में हैं दूध पीने के कुछ नियम

दूध हमारे खान-पान का बहुत अहम हिस्सा है। यह हमारे शरीर और दिमाग को जरुरी पोषण प्रदान करता है। यह ठंडा, वात और पित्‍त दोष को बैलेंस करने का काम करता है। आयुर्वेद के अनुसार गाय का दूध सबसे ज्‍यादा पौष्टिक होता है। दूध भूख को शांत करता है और मोटापे से भी छुटकारा दिलाने में मददगार है। लेकिन कुछ लोगों को दूध पीने के बाद हजम नहीं हो पाता। उन्‍हें पेट फूलने या फिर बार खराब होने की समस्‍या से जूझना पड़ता है। पहले ज़माने के मुकाबले आज कल दूध की क्‍वालिटी में गिरावट आने की वजह से ऐसा होता है। यदि आपका पाचन तंत्र मजबूत नहीं है तो भी आपको दूध ठीक से हजम नहीं हो पाएगा। आयुर्वेद के अनुसार दूध पीने के कुछ नियम हैं, जिनका पालन करने से आपको दूध हजम हो जाएगा।

2
बिना शक्कर मिला दूध

आमतौर पर लोगों की आदत होती है कि दूध में शक्कर मिलाकर पीते हैं। आयुर्वेद का मानना है कि यदि रात में बिना शक्कर मिला दूध पियेंगे तो वह अधिक फायदेमंद होगा। अगर हो सके तो दूध में गाय का एक या दो चम्मच घी भी मिला लेना चाहिए।

3
ताजा व जैविक दूध

इन दिनों हमारी जीवनशैली ऐसी है कि हम हर चीज पैकेट वाली इस्तेमाल करने लगे हैं। दूध भी अधिकतर लोग पैकेट वाला ही लेते हैं। पैकेट वाला दूध न ताज़ा होता है और न ही जैविक। आयुर्वेद के अनुसार, ताजा, जैविक और बिना हार्मोन की मिलावट वाला दूध सबसे अच्‍छा होता है। पैकेट में मिलने वाला दूध नहीं पीना चाहिये।

4
उबला दूध

कुछ लोगों को कच्चा दूध अच्छा लगता है। फ्रिज से दूध निकालकर बिना उबाले सीधे ही पी जाना सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता। आयुर्वेद मानता है कि दूध को उबालकर, गर्म अवस्था में पीना चाहिए। अगर दूध पीने में भारी लग रहा हो तो उसमें थोड़ा पानी मिलाया जा सकता है। ऐसा दूध आसानी से पच भी जाता है।

5
देसी गाय का दूध

आयुर्वेद देसी गाय के दूध के सेवन पर अधिक जोर देता है। आयुर्वेद के अनुसार, देसी गाय का दूध ही सबसे अधिक फायदा देता है। शहरों में इस तरह का दूध ढूंढ पाना थोड़ा मुश्किल तो होता है लेकिन अगर संभव हो तो यही दूध पीना चाहिए।

6
दूध में लौंग व इलायची

जिन लोगों को दूध हजम नहीं होता उनके लिए दूध पीने का एक और तरीका है। दूध में एक चुटकी अदरक, लौंग, इलायची, केसर, दालचीनी और जायफल आदि की मिलाएं। इससे आपके पेट में अतिरिक्त गर्मी बढ़ेगी जिसकी मदद से दूध हजम होने में आसानी मिलेगी।

7
दूध और केसर

अक्सर किसी न किसी वजह से हम रात का खाना नहीं खा पाते। आयुर्वेद के अनुसार, ऐसी स्थिति में एक चुटकी जायफल और केसर डाल कर दूध पी लें। इससे नींद भी अच्‍छी आती है और साथ ही शरीर को ऊर्जा भी प्राप्त हो जाती है। अगली बार से जब रात का खाना न खाएं, इस तरह का दूध पी लें।

8
नमकीन चीज़ व मछली के साथ दूध का सेवन नहीं

आयुर्वेद का कहना है कि किसी भी नमकीन चीज़ के साथ दूध का सेवन ना करें। क्रीम सूप या फिर चीज़ को नमक के साथ ना खाएं। दूध के साथ खट्टे फल भी नहीं खाने चाहिये। आमतौर पर, दूध इन चीज़ों के साथ मिलकर रिऐक्शन कर जाता है। ये बात आपने कई बार सुनी होगी, कि दूध के साथ मछली का सेवन नहीं करना चाहिए। आयुर्वेद का मानना है कि यदि दूध और मछली का सेवन एक वक्त पर किया जाए तो इससे त्वचा खराब हो जाती है। त्वचा पर सफेद व भूरे धब्बे उबरने लगते हैं।

वजन घटाने में मददगार है अजवाइन

जानें वजन घटाने में कितनी मददगार है अजवाइन
कैप्शन जोड़ें

पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करती है अजवाइन।
मोटापा कम करने का असरदार नुस्खा है अजवाइन।
अजवाइन एक प्रकार का एंटी एसिड होता है।
अजवाइन को छाछ के साथ पीने से होता है फायदा।

मोटापा न सिर्फ आपकी पर्सनेलटी को खराब करता है, बल्कि कई बीमारियों का कारण भी बनता है। लेकिन मोटापा कम करना कोई आसान काम भी तो नहीं। लेकिन अगर हम आपको मोटापा कम करने का एक ऐसा नुस्खा बताएं जो न सिर्फ मोटापा कम करता है बल्कि बेहद सस्ता और आसानी से मिल जाने होता है, तो कैसा रहेगा। आपने अपनी रसोई में कई तरह के देखे होगें। उन्‍हीं में से एक है मसाला है 'अजवाइन'। अजवाइन न सिर्फ एक मसाला है, बल्कि एक ऐसी औषधि भी है जिसके प्रयोग से मोटापा कम किया जा सकता है और स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाया जा सकता है। तो चलिये जानें कि अजवाइन से मोटापे को कैसे कम किया जा सकता है।

पाचन संबंधी समस्या को सुधारती है

यदि पाचन ठीक न हो तो मोटाबॉलिज्म खराब होता है और इससे मोटापा भी बढ़ता है। अजवाइन पाचन संबधी किसी भी समस्‍या को ठीक करने में सहायक होती है। यह एक प्रकार का एंटी एसिड होती है जोकि बदहज़मी की समस्या से बचाव करती है। अजवाइन को छाछ के साथ पीने से पाचन संबधी समस्या जैसे अपच आदि से राहत मिलती है।


असरदार नुस्खा अजवाइन


अजवाइन मोटापे कम करने में भी कारगर होती है। इससे मोपाटा कम करने के लिये रात को एक चम्मच अजवाइन को एक गिलास पानी में भिगो कर रख दें। सुबह उठने पर इसे छानकर एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर पीएं। इसके नियमित सेवन से जल्द ही मोटापा कम होने लगता है।

लेकिन अजवाइन या अन्य रोई भी नुस्खा कोई चमत्कार नहीं होता है। इन नुस्खों के साथ-साथ नियमित एक्सरसाइज व पौष्टिक और संतुलित भोजन करने की भी जरूरत होती है। साथ ही शरीर को ठीक से हाइड्रेट भी रखना होता है।

जोड़ों के दर्द की प्राकृतिक चिकित्सा

जोड़ों के दर्द की प्राकृतिक चिकित्सा

हड्डियां हमारे शरीर का ढांचा है और इनसे हमारा संचालन होता है। हमारे शरीर में कुल 206 हड्डियां और 320 जोड़ हैं। और कई कारणों से इनमें दर्द या परेशानी हो सकती है। आइए जानें कुछ ऐसे प्राकृतिक उपाय जो हमें इस दर्द से राहत दिला सकते हैं।

हड्डियों या जोड़ों में किसी भी प्रकार के विकार के कारण हड्डियों में दर्द और सूजन उत्पन्न होती है। जोड़ों में दर्द के बहुत से अन्य कारण भी हो सकते हैं जैसे जोड़ों पर यूरिक एसिड का इकट्ठा होना। कभी कभी दर्द अनुवांशिक कारणों से होता है और कभी कभी कमज़ोरी से। ठंड लग जाने से या कार्टिलेज में मौजूद तरल द्रव के सूख जाने के कारण हड्डियों पर रगड़ पड़ने से भी दर्द हो सकता है।

शारीरिक रूप से मोटे लोग या वो लोग जिन्हें कब्ज़ रहती है उन्हें भी इस प्रकार के दर्द का सामना करना पड़ता है। वैसे तो आजकल कम उम्र में ही लोगों को जोड़ो का दर्द अपनी गिरफ्त में ले रहा है। पर अधिकतर लोग मानते हैं कि जोड़ो का दर्द लाइलाज नहीं है। प्राकृतिक चिकित्सा के माध्यम से इसके दर्द से राहत मिल सकती है। अगर आप भी जोड़ों के दर्द से परेशान हैं तो हमारे द्वारा दिए गए टिप्स जरूर अपनाएं।

जोड़ों के दर्द से बचने के कुछ प्राकृतिक उपाय:

जोड़ों के दर्द से बचाव के लिए मरीज़ को हमेशा गुनगुने पानी से नहाना चाहिए।
ऐसे आहार लें जिनसे कब्ज़ होने का डर ना हो।
फास्ट फूड से तौबा करें और तला भुना आहार भी कम खायें।
पाचन क्रिया को ठीक रखने के लिए आप त्रिफला चूर्ण का प्रयोग भी कर सकते हैं।
प्रातः प्राणायाम में कपालभाति, भास्त्रिका, अनुलोम विलोम जैसे व्यायाम करें।
सुबह शाम 15 मिनट तक गरम पानी में पैर डालें और ध्यान रखें कि ऐसा करते समय आपके पैरों में हवा ना लगे।
इस रोग का उपचार करने में तुलसी बड़ी कारगर भूमिका निभाती है क्योंकि तुलसी में वात विकार को मिटाने का प्राकृतिक गुण होता है। तुलसी का तेल बनाकर दर्द वाली जगह लगाने से तुरंत आराम मिलता है।
ज्यादा तकलीफ होने पर नमक मिले गरम पानी का सेंका करें व हल्के गुनगुने सरसों के तेल की मालिश करें।

दर्द से बचने के लिए इन आदतों से दूर रहें:

ठंड के मौसम में ठंडी जगह पर ना बैठें और अधिक समय तक स्नान ना करें।
अधिक वसायुक्त आहार ना लें।

वज़न पर नियंत्रण रखें।
आलू, चावल, राज़मा, दही, छोले, शराब का सेवन ना करें।
भोजन में खट्टे फलों का प्रयोग न करें।

इस प्रकार के दर्द में लेप व तेल की मालिश से भी आराम मिलता है:

जोड़ों पर महानारायण, महा विषगर्भ तेल ,सैन्धवादि तेल,वंडर आयल या रूमताज तेल से सुबह शाम मालिश करें।
महुआ, अलसी, तिल, सरसों तथा बिनौली के तेल को मिला कर और गरम कर के इससे मालिश करें।

वैरिकोज वेन्‍स की समस्‍या

वैरिकोज वेन्स का उपचार varicose veins

क्‍या है वैरिकोज वेन्स ::

पैर की नसों में मौजूद वाल्‍व, पैरों से रक्त नीचे से ऊपर हृदय की ओर ले जाने में मदद करते है। लेकिन इन वॉल्‍व के खराब होने पर रक्त ऊपर की ओर सही तरीके से नहीं चढ़ पाता और पैरों में ही जमा होता जाता है। इससे पैरों की नसें कमजोर होकर फैलने लगती हैं या फिर मुड़ जाती हैं, इसे वैरिकोज वेन्‍स की समस्‍या कहते हैं। इससे पैरों में दर्द, सूजन, बेचैनी, खुजली, भारीपन, थकान या छाले जैसी समस्याएं शुरू हो जाती हैं।
1.सेब साइडर सिरका :-

सेब साइडर सिरका वैरिकोज वेन्‍स के लिए एक अद्भुत उपचार है। यह शरीर की सफाई करने वाला प्राकृतिक उत्‍पाद है और रक्त प्रवाह और रक्‍त परिसंचरण में सुधार करने में मदद करता है। समस्‍या होने पर सेब साइडर सिरके को लगाकर उस हिस्‍से की मालिश करें। इस उपाय को नियमित रूप से रात को बिस्‍तर पर जाने से पहले और अगले सुबह फिर से करें। कुछ दिन ऐसा करने से कुछ ही महीनों में वैरिकोज वेन्‍स का आकार कम होने लगता है। या फिर एक गिलास पानी में दो चम्‍मच सेब साइडर सिरके को मिलाकर पीये। अच्‍छे परिणाम पाने के लिए इस मिश्रण का एक महीने में दिन में दो बार सेवन करें।
2. लाल शिमला मिर्च :-

लाल शिमला मिर्च को वैरिकोज वेन्‍स के इलाज लिए एक चमत्‍कार की तरह माना जाता है। विटामिन सी और बायोफ्लेवोनॉयड्स का समृद्ध स्रोत होने के कारण यह रक्त परिसंचरण को बढ़ाने और संकुलित और सूजी हुई नसों के दर्द को आसान बनाता है। गर्म पानी में एक चम्‍मच लाल शिमला मिर्च के पाउडर को मिलाकर, इस मिश्रण का एक से दो महीने के लिए दिन में तीन बार सेवन करें।
3. जैतून का तेल : –

जैतून के तेल और विटामिन ई तेल को बराबर मात्रा में मिलाकर उसे थोड़ा सा गर्म कर लें। इस गर्म तेल से नसों की मालिश कई मिनट तक एक से दो महीने के लिए करें।
4. लहसुन :-

छह लहसुन की कली लेकर उसे एक साफ जार में डाल लें। तीन संतरे का रस लेकर उसे जार में मिलाये। फिर इसमें जैतून के तेल मिलायें। इस मिश्रण को 12 घंटे के लिए रख दें। फिर इस मिश्रण से कुछ बूंदों को हाथों पर लेकर 15 मिनट के लिए सूजन वाली नसों पर मालिश करें। इस पर सूती कपड़ा लपेट कर रातभर के लिए छोड़ दें। इस उपाय को कुछ महीनों के लिए नियमित रूप से करे |
5. बुचर ब्रूम :-

बुचर ब्रूम वैरिकोज वेन्‍स की असुविधा से राहत देने में बहुत ही उपयोगी होता है। इस जड़ी बूटी में रुसोगेनिन्स नामक गुण सूजन को कम करने में मदद करता है और एंटी-इफ्लेमेंटरी और एंटी-इलास्‍टेज गुण नसों की बाधा को कम करता है। यह पोषक तत्‍वों को मजबूत बनाने और नसों की सूजन को कम करने के साथ ही पैरों के रक्‍त प्रवाह में सुधार करने में मदद करते हैं। लेकिन उच्‍च रक्तचाप वाले लोग इस जड़ी-बूटी के सेवन से पहले चिकित्‍सक से परामर्श अवश्‍य ले लें।
6. अखरोट : –

अखरोट के तेल में एक साफ कपड़े को डूबाकर प्रभावित क्षेत्र पर लगाये। ऐसा एक या दो महीने के लिए दिन में दो से तीन बार करें।
7.अजमोद :- (अजवायन)

एक मुठ्ठी ताजा अजमोद की एक मुठ्ठी लेकर उसे एक कप पानी में पांच मिनट के लिए उबाल लें। फिर इसे मिश्रण को ठंडा होने के लिए रख दें। फिर इस मिश्रण में गुलाब और गेंदे की तेल की एक-एक बूंद मिला लें। अब इस मिश्रण को कुछ देर के लिए फ्रिज में रख दें। इस मिश्रण को कॉटन पर लगाकर प्रभावित क्षेत्र पर लगायें। अच्‍छे परिणाम पाने के लिए इस उपाय को कुछ महीनों तक करें।
7. अर्जुन की छाल : –

अर्जुन की छाल वेरीकोस वेन्स के लिए बहुत बढ़िया दवा हैं, अगर आप इस समस्या से परेशान हैं तो आप रात को सोते समय गाय के दूध में या साधारण पानी में अर्जुन की चाल को चाय की तरह उबाले और आधा रहने पर इसको छान कर पी ले।

ये सब प्रयोग आपको एक दिन में आराम नहीं देंगे, मगर 4 से 6 महीने में चमत्कारिक परिणाम मिलेंगे।

पथरी को निकालने में मददगार है पत्थररचट्टा

जानें कैसे पथरी को निकालने में मददगार है पत्थररचट्टा
पत्थरचट्टा से पथरी के निकालने की विधि आयुर्वेद में भी है वर्णित।
यह किडनी स्टोन और प्रोस्टेट गंथि से जुड़े रोगों में है फायदेमंद।
इसके 4-5 पत्तों को सुबह शाम जूस के रूप में पीना फायदेमंद।
इस दौरान धूम्रपान और तंबाकू के सेवन से बिलकुल परहेज करें।

पथरी ऐसी समस्या है जो बहुत ही कष्टदायी है। लोग इससे निजात पाने के लिए सर्जरी भी करवाते हैं। लेकिन कई तरीके ऐसे भी हैं जिनमें बिना सर्जरी के भी पथरी को आसानी से शरीर से निकाला जा सकता है। पत्थरचट्टा भी उन तरीकों में से एक है। आयुर्वेद में पत्थरचट्टे के पौधे को किडनी स्टोन और प्रोस्टेट ग्रंथि से जुड़े रोगों के इलाज में उपयोगी माना गया है। इसे पर्णबीज भी कहते हैं। इसके पत्ते को मिट्टी में गाड़ देने से ही यह उस स्थान पर उग जाता है। तासीर में सामान्य होने की वजह से इसका प्रयोग किसी भी मौसम में कर सकते हैं। इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं होता। इसके बारे में विस्तार से इस लेख में जानते हैं।


पथरी के लिए फायदेमंद

पत्थरचट्टा के प्रयोग से पथरी आसानी से बाहर आ जाती है। महिलाओं में वाइट डिस्चार्ज, पेशाब में जलन व पुरुषों में प्रोस्टेट की समस्या में भी यह बहुत ही लाभकारी है। इसके सेवन से 10-15 एमएम तक की पथरी पेशाब के जरिए बाहर निकल जाती है।

पत्थरचट्ठा के 4-5 पत्तों को एक गिलास पानी में पीसकर सुबह-शाम जूस के रूप में लगभग 1-2 माह तक पिएं। जूस के अलावा पत्तों को चबाकर व पकौड़े बनाकर भी खाया जा सकता है। स्वस्थ व्यक्ति भी यदि इसके पत्तों का सेवन नियमित रूप से करे तो वह कई परेशानियों से बच सकता है।
इन बातों का ध्यान रखें

इस दौरान तम्बाखू, चूने, सुपारी आदि का सेवन करने से बचें।
एक गमले में पत्थरचट्टा का पौधा लगा लें, इस की डाली या पत्ता ही लग जाता है और कुछ ही दिनों में पौधा बन जाता है।
प्रति सप्ताह हम से कम एक पत्ते का सेवन करते रहें या सब्जी में एक-दो पत्ते डालें।
जिनको बार-बार पथरी होती रहती है, वे हर दूसरे दिन पत्थर चट्टा का आधा पत्ता सेवन करें, लेकिन बिंदु एक में वर्जित अस्वास्थ्यकर व्यसनों के साथ ही टमाटर के बीजों का सेवन भी नहीं करें।

पथरी की समस्या बहुत ही कष्टदायी होती है, इसलिए अगर इस प्रयोग को आजमाने के बाद भी पथरी की समस्या दूर नहीं हो रही है तो चिकित्‍सक से संपर्क अवश्य करें।

बवासीर (पाइल्स) का अचूक नुस्खा

बवासीर (पाइल्स) का अचूक नुस्खा
खूनी बवासीर या मस्से वाली बवासीर का एक अचूक नुस्खा स्वदेशी चिकित्सा सार में पृष्ठ 54 पर है। यह मैंने भी पढ़ा था लेकिन किसी पर आजमाया नहीं था। मैं होमियोपैथी की मदरटिंचर हेमेमिलिस और बायोकाम्बिनेशन नम्बर सत्रह से बवासीर के अनेक केस ठीक कर चुका हूँ। पाँच-पाँच बूंद हेमेमिलिस आधा कप पानी में मिला कर दिन में तीन बार और बायोकाम्बिनेशन सत्रह की चार-चार गोलियाँ तीन बार लेने से खूनी और साधारण बवासीर ठीक हो जाती है।
एक रोगी को शायद बदपरेहजी की वजह से यह रोग दोबारा हो गया। दूसरी बार उसे होमियोपैथी के इस नुस्खे से लाभ नहीं हो रहा था। उस पर स्वदेशी चिकित्सा सार का यह नुस्खा आजमाया गया। बरोशी महाराष्ट्र के स्वामी डा.ओमानंदजी का यह अनुभूत प्रयोग सचमुच अचूक है। जैसा कि उन्होंने दावा किया है एक दिन में ही रक्तस्राव बंद हो जाता है। बड़ा सस्ता व सरल उपाय है।
नारियल की जटा लीजिए। उसे माचिस से जला दीजिए। जलकर भस्म बन जाएगी। इस भस्म को शीशी में भर कर ऱख लीजिए। कप डेढ़ कप छाछ या दही के साथ नारियल की जटा से बनी भस्म तीन ग्राम खाली पेट दिन में तीन बार सिर्फ एक ही दिन लेनी है। ध्यान रहे दही या छाछ ताजी हो खट्टी न हो। कैसी और कितनी ही पुरानी पाइल्स की बीमारी क्यों न हो, एक दिन में ही ठीक हो जाती है।
सचमुच मुझे भी ऐसा ही चमत्कार देखने को मिला। उस मरीज को जो पंद्रह दिन से खूनी बवासीर के कारण परेशान था, एक दिन में ही आराम हो गया। स्वामीजी ने लिखा है कि यह नुस्खा किसी भी प्रकार के रक्तस्राव को रोकने में कारगर है। महिलाओं के मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव या श्वेत प्रदर की बीमारी में भी कारगर है। हैजा, वमन या हिचकी रोग में यह भस्म एक घूँट पानी के साथ लेनी चाहिए। ऐसे कितने ही नुस्खे हिन्दुस्तान के मंदिरों और मठों में साधु संन्यासियों द्वारा आजमाए हुए हैं। इन पर शोध किया जाना चाहिए।
पुनः कुछ लोगों ने मुझे फोन कर सवाल किया कि खाली पेट दिन में तीन बार लेना अर्थार्थ दिन भर भोजन नहीं करना है क्या। मेरा सुझाव है कि दवा लेने के एक घंटा पहले और एक घंटा बाद तक कुछ न खाएं तो चलेगा। अगर रोग ज्यादा जीर्ण हो और एक दिन दवा लेने से लाभ न हो तो दो या तीन दिन लेकर देखिए।

रविवार, 8 नवंबर 2015

दीपावली का पर्व 11 नवम्बर, 2015


11 नवम्बर, 2015 दीपावली  पूजन मुहूर्त