गुरुवार, 28 जुलाई 2016

Hon’ble Shri Nitin Gadkari unveils posters of Sandesh Gour's upcoming Film #Meeradha


Hon’ble Shri Nitin Gadkari unveils posters of Sandesh Gour's upcoming Film Meeradha

Sandesh Gour, Surya Prakash Jethlia with Hon'ble Nitin Gadkariji and crew
Union Minister of India Hon’ble Shri Nitin Jairam Gadkari launched posters of actor Sandesh Gour's upcoming bollywood movie Meeradha in Nagpur recently. Mr. Nitin Gadkari opened the wrap and unveiled the posters showing the first look of Meeradha to print and electronic media.

The two posters that were unveiled were creatively designed in Mumbai. A modern age romantic film, the posters clearly depict the feel of the film. According to Sandesh Gour, Meeradha is a unique name that’s a mix of Meera and Radha. He added that it was a “dream come true” for the posters to be unveiled by an Hon’ble and eminent personality as Shri Gadkariji as its my debut movie. The new poster for Meeradha clearly depicts the romantic feel of the film. Meeradha is not only unique by its name, but it’s a feel good romantic film with a message.

The event which was organised by SPJ Entertainment in Nagpur recently were attended by the Hon’ble MLA Milid Mane, MLA Vikas Kumbhare, MLA Krishna Kopde, BJP North Nagpur president Mr.Dilip Gour, lead actor Sandesh Gour, lead actress Suhani Jethlia and Venus Jain, Producer Surya Prakash Jethlia, Director Aashish Sinha and the whole cast and crew were present to seek blessings for the film. Road Transport and Shipping Minister Mr. Nitin Gadkari gave his best wishes and blessings to actor Sandesh Gour and the entire cast and crew of Meeradha.

Writer Producer Surya Prakash Jethlia added, “This is one film that one can sit with the family and watch. Having said this, there is enough masala for the youth and never for once the audience will feel bored as we have not done it in a preachy manner.”

The film has beautiful compositions rendered by Shaan, Javed Ali, Raja Hasan, Santosh Kumar, Shahzaad Ali and Suhani Jethlia and the songs are set to tune by Archit Tak, Sugat – Shubham and Santosh Kumar. Shot entirely in Rangeelo Rajasthan, Mumbai and Silvasa, Meeradha is produced and presented by SPJ Entertainment OPC Pvt Ltd. and is set for an all India release next month in August 2016.



गुरुवार, 21 जुलाई 2016

शिवताण्डवस्तोत्रम्


शिवताण्डवस्तोत्रम्

||श्रीगणेशाय नमः ||
जटा टवी गलज्जल प्रवाह पावितस्थले, गलेऽवलम्ब्य लम्बितां भुजङ्ग तुङ्ग मालिकाम् |

डमड्डमड्डमड्डमन्निनाद वड्डमर्वयं, चकार चण्डताण्डवं तनोतु नः शिवः शिवम् ||१||
जटा कटा हसंभ्रम भ्रमन्निलिम्प निर्झरी, विलो लवी चिवल्लरी विराजमान मूर्धनि |
धगद् धगद् धगज्ज्वलल् ललाट पट्ट पावके किशोर चन्द्र शेखरे रतिः प्रतिक्षणं मम ||२|| 
धरा धरेन्द्र नंदिनी विलास बन्धु बन्धुरस् फुरद् दिगन्त सन्तति प्रमोद मानमानसे | 
कृपा कटाक्ष धोरणी निरुद्ध दुर्धरापदि क्वचिद् दिगम्बरे मनो विनोदमेतु वस्तुनि ||३||
 लता भुजङ्ग पिङ्गलस् फुरत्फणा मणिप्रभा कदम्ब कुङ्कुमद्रवप् रलिप्तदिग्व धूमुखे |
मदान्ध सिन्धुरस् फुरत् त्वगुत्तरीयमे दुरे मनो विनोद मद्भुतं बिभर्तु भूतभर्तरि ||४|| 
सहस्र लोचनप्रभृत्य शेष लेखशेखर प्रसून धूलिधोरणी विधूस राङ्घ्रि पीठभूः | 
भुजङ्ग राजमालया निबद्ध जाटजूटक श्रियै चिराय जायतां चकोर बन्धुशेखरः ||५|| 
ललाट चत्वरज्वलद् धनञ्जयस्फुलिङ्गभा निपीत पञ्चसायकं नमन्निलिम्प नायकम् |
 सुधा मयूखले खया विराजमानशेखरं महाकपालिसम्पदे शिरोज टालमस्तु नः ||६||
 कराल भाल पट्टिका धगद् धगद् धगज्ज्वल द्धनञ्जयाहुती कृतप्रचण्ड पञ्चसायके | 
धरा धरेन्द्र नन्दिनी कुचाग्र चित्रपत्रक प्रकल्प नैक शिल्पिनि त्रिलोचने रतिर्मम |||७|| 
नवीन मेघ मण्डली निरुद् धदुर् धरस्फुरत्- कुहू निशीथि नीतमः प्रबन्ध बद्ध कन्धरः | 
निलिम्प निर्झरी धरस् तनोतु कृत्ति सिन्धुरः कला निधान बन्धुरः श्रियं जगद् धुरंधरः ||८|| 
प्रफुल्ल नीलपङ्कज प्रपञ्च कालिम प्रभा- वलम्बि कण्ठकन्दली रुचिप्रबद्ध कन्धरम् | 
स्मरच्छिदं पुरच्छिदं भवच्छिदं मखच्छिदं गजच्छि दांध कच्छिदं तमंत कच्छिदं भजे ||९|| 
अखर्व सर्व मङ्गला कला कदंब मञ्जरी रस प्रवाह माधुरी विजृंभणा मधुव्रतम् |स्मरान्तकं पुरान्तकं भवान्तकं मखान्तकं गजान्त कान्ध कान्त कं तमन्त कान्त कं भजे ||१०|| 
जयत् वदभ्र विभ्रम भ्रमद् भुजङ्ग मश्वस – द्विनिर्ग मत् क्रमस्फुरत् कराल भाल हव्यवाट् |
धिमिद्धिमिद्धिमिध्वनन्मृदङ्गतुङ्गमङ्गल  ध्वनिक्रमप्रवर्तित प्रचण्डताण्डवः शिवः ||११|| स्पृषद्विचित्रतल्पयोर्भुजङ्गमौक्तिकस्रजोर्-गरिष्ठरत्नलोष्ठयोः सुहृद्विपक्षपक्षयोः |

तृष्णारविन्दचक्षुषोः प्रजामहीमहेन्द्रयोः समप्रवृत्तिकः ( समं प्रवर्तयन्मनः) कदा सदाशिवं भजे ||१२||
 कदा निलिम्पनिर्झरीनिकुञ्जकोटरे वसन् विमुक्तदुर्मतिः सदा शिरः स्थमञ्जलिं वहन् | विमुक्तलोललोचनो ललामभाललग्नकः शिवेति मंत्रमुच्चरन् कदा सुखी भवाम्यहम् ||१३|| 
इदम् हि नित्यमेवमुक्तमुत्तमोत्तमं स्तवं पठन्स्मरन्ब्रुवन्नरो विशुद्धिमेतिसंततम् | 
हरे गुरौ सुभक्तिमाशु याति नान्यथा गतिं विमोहनं हि देहिनां सुशङ्करस्य चिंतनम् ||१४||

पूजा वसान समये दशवक्त्र गीतं यः शंभु पूजन परं पठति प्रदोषे | तस्य स्थिरां रथगजेन्द्र तुरङ्ग युक्तां लक्ष्मीं सदैव सुमुखिं प्रददाति शंभुः ||१५||
इति श्रीरावण- कृतम् शिव- ताण्डव- स्तोत्रम् सम्पूर्णम् --

Jai shree krishna

Thanks,

Regards,

कैलाश चन्द्र लढा(भीलवाड़ा) www.sanwariya.orgsanwariyaa.blogspot.comhttps://www.facebook.com/mastermindkailashhttps://www.youtube.com/watch?v=QvUF4LkmwKo

भगवान महेशजी का प्रिय महीना - सावन


सावन महीने को देवों के देव महादेव भगवान महेशजी का प्रिय महीना माना जाता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार महादेव-पार्वती ब्रम्हांड की अमर जोड़ी (युगल / कपल) है। महादेव-पार्वती पति-पत्नी के रुप में अमर-अटूट-सफल प्रेम की दास्ताँ है। श्रावण मास को महादेव-पार्वती के मिलन का मास माना जाता है। इस तरह सावन मास शक्ति (पार्वती) और शक्तिमान (शिव) दोनों के मिलन का केन्द्र हैं। श्मशानी रुद्र ग्रहस्थ बनकर विवाह रचाते हैं। यह पुरुष और प्रकृति का मिलन है।

इस संबंध में पौराणिक कथा है कि जब सनत कुमारों ने महादेव से उन्हें सावन महीना प्रिय होने का कारण पूछा तो महादेव भगवान शिव ने बताया कि जब देवी सती ने अपने पिता दक्ष के घर में योगशक्ति से शरीर त्याग किया था, उससे पहले देवी सती ने महादेव को हर जन्म में पति के रूप में पाने का प्रण किया था। अपने दूसरे जन्म में देवी सती ने पार्वती के नाम से हिमाचल और रानी मैना के घर में पुत्री के रूप में जन्म लिया। पार्वती ने युवावस्था के सावन महीने में निराहार रह कर कठोर व्रत किया और उन्हें प्रसन्न कर विवाह किया, जिसके बाद ही महादेव के लिए यह मास विशेष हो गया।

क्यों है सावन की विशेषता? :-
रौद्रावतार भगवान शिव की सौम्य मूर्ति एवं रूप का दर्शन मात्र श्रावण मास में ही संभव है। जैसा कि पुराणों में या विविध ग्रन्थों में या लोकमत के रूप में यह प्रसिद्ध है कि भगवान रुद्र के 11 ही अवतार है। जो भाद्रपद से लेकर आषाढ़ माह तक 11 महीनों में नाम के अनुरूप मासों में पूजित एवं सिद्ध किए जाते हैं। किन्तु श्रावण माह में शान्त, सौम्य, सुन्दर, प्रफुल्लित एवं सन्तुष्ट भगवान शिव की अनुपम एवं मनमोहक मूर्ति सद्यः प्रसन्न एवं वरदायिनी होती है। माहेश्वरी महादेव के सौम्य रूप की आराधना करते है इसलिए माहेश्वरीयों में "पत्नी पार्वती और गोद में पुत्र गणेश के साथ विराजमान महेशजी" इस परिवारपालक, सौम्य रूपकी भक्ति-आराधना की परंपरा रही है।

इस महीने में भगवान शिव मुँह माँगा वरदान देने के लिए तत्पर रहते हैं। इसमें कोई संदेह नहीं कि इस श्रावण माह में सीधे-सादे भगवान महेशजी को प्रसन्न करके जो वरदान चाहें वह माँग लें। जगत मोहिनी माता पार्वती के साथ भूतभावन भगवान भोलेनाथ निर्विकार अपने हर्ष से भरे हृदय के साथ उन्मुक्त मन से अपने भक्तों को इस महीने सब कुछ दे देने के लिए सदा तत्पर रहते हैं।

बेलपत्र और समीपत्र (माहेश्वरीयों में रही है महेशजी को 'समीपत्र' चढाने की परंपरा) :-
भक्त भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए बेलपत्र चढ़ाते हैं। लेकिन माहेश्वरीयों में महेशजी को समीपत्र (शमीपत्र) चढाने की परंपरा रही है। इस संबंध में एक पौराणिक कथा के अनुसार जब 89 हजार ऋषियों ने महादेव को प्रसन्न करने की विधि परम पिता ब्रह्मा से पूछी तो ब्रह्मदेव ने बताया कि महादेव सौ कमल चढ़ाने से जितने प्रसन्न होते हैं, उतना ही एक नीलकमल चढ़ाने पर होते हैं। ऐसे ही एक हजार नीलकमल के बराबर एक बेलपत्र और एक हजार बेलपत्र चढ़ाने के फल के बराबर एक समीपत्र (शमीपत्र) का महत्व होता है।

चमत्कारिक और अद्भुत होते हैं भगवान शंकर का प्रिय बिल्व-पत्र

बिल्वपत्र का महत्व
बिल्व तथा श्रीफल नाम से प्रसिद्ध (famous) यह फल बहुत ही काम का है। यह जिस पेड़ (tree) पर लगता है वह शिवद्रुम भी कहलाता है। बिल्व का पेड़ संपन्नता का प्रतीक, बहुत पवित्र तथा समृद्धि देने वाला है। बेल के पत्ते शंकर जी (shiv shanker ji) का आहार माने गए हैं, इसलिए भक्त लोग बड़ी श्रद्धा से इन्हें महादेव के ऊपर चढ़ाते हैं। शिव की पूजा के लिए बिल्व-पत्र बहुत ज़रूरी माना जाता है। शिव-भक्तों का विश्वास है कि पत्तों (leaves) के त्रिनेत्रस्वरूप् तीनों पर्णक शिव के तीनों नेत्रों को विशेष प्रिय हैं।
2 भगवान शंकर का प्रिय भगवान शंकर को बिल्व पत्र बेहद प्रिय हैं। भांग धतूरा और बिल्व पत्र से प्रसन्न होने वाले केवल शिव ही हैं। शिवरात्रि (shiv ratri) के अवसर पर बिल्वपत्रों से विशेष रूप से शिव की पूजा की जाती है। तीन पत्तियों वाले बिल्व पत्र आसानी से उपलब्ध (easily available) हो जाते हैं, किंतु कुछ ऐसे बिल्व पत्र भी होते हैं जो दुर्लभ पर चमत्कारिक और अद्भुत होते हैं।
3 बिल्वाष्टक और शिव पुराणबिल्व पत्र का भगवान शंकर के पूजन (poojan) में विशेष महत्व (special importance) है जिसका प्रमाण शास्त्रों में मिलता है। बिल्वाष्टक और शिव पुराण में इसका स्पेशल उल्लेख है। अन्य कई ग्रंथों में भी इसका उल्लेख मिलता है। भगवान शंकर एवं पार्वती को बिल्व पत्र चढ़ाने का विशेष महत्व है।
4 मां भगवती को बिल्व पत्रश्रीमद् देवी भागवत में स्पष्ट वर्णन है कि जो व्यक्ति मां भगवती (ma bhagwati) को बिल्व पत्र अर्पित करता है वह कभी भी किसी भी परिस्थिति में दुखी नहीं होता। उसे हर तरह की सिद्धि प्राप्त होती है और कई जन्मों के पापों से मुक्ति मिलती है और वह भगवान भोले नाथ का प्रिय भक्त हो जाता है। उसकी सभी इच्छाएं (wishes) पूरी होती हैं और अंत में मोक्ष की प्राप्ति होती है।
5 बिल्व पत्र के प्रकारबिल्व पत्र चार प्रकार के होते हैं – अखंड बिल्व पत्र, तीन पत्तियों के बिल्व पत्र, छः से 21 पत्तियों तक के बिल्व पत्र और श्वेत बिल्व पत्र। इन सभी बिल्व पत्रों का अपना-अपना आध्यात्मिक महत्व (spiritual importance) है। आप हैरान हो जाएंगे ये जानकर की कैसे ये बेलपत्र आपको भाग्यवान बना सकते हैं और लक्ष्मी कृपा दिला सकते हैं।
6 अखंड बिल्व पत्रइसका विवरण बिल्वाष्टक में इस प्रकार है – ‘‘अखंड बिल्व पत्रं नंदकेश्वरे सिद्धर्थ लक्ष्मी’’। यह अपने आप में लक्ष्मी सिद्ध है। एकमुखी रुद्राक्ष के समान ही इसका अपना विशेष महत्व है। यह वास्तुदोष का निवारण भी करता है। इसे गल्ले में रखकर नित्य पूजन करने से व्यापार में चैमुखी विकास होता है।
7 तीन पत्तियों वाला बिल्व पत्रइस बिल्व पत्र के महत्व का वर्णन भी बिल्वाष्टक में आया है जो इस प्रकार है- ‘‘त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रिधायुतम् त्रिजन्म पाप सहारं एक बिल्वपत्रं शिवार्पणम’’ यह तीन गणों से युक्त होने के कारण भगवान शिव को प्रिय है। इसके साथ यदि एक फूल धतूरे का चढ़ा दिया जाए, तो फलों (fruits) में बहुत वृद्धि होती है।
8 तीन पत्तियों वाला बिल्व पत्रइस तरह बिल्व पत्र अर्पित करने से भक्त को धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की प्राप्ति होती है। रीतिकालीन कवि ने इसका वर्णन इस प्रकार किया है- ‘‘देखि त्रिपुरारी की उदारता अपार कहां पायो तो फल चार एक फूल दीनो धतूरा को’’ भगवान आशुतोष त्रिपुरारी भंडारी सबका भंडार भर देते हैं।
9 तीन पत्तियों वाला बिल्व पत्रआप भी फूल चढ़ाकर इसका चमत्कार स्वयं देख सकते हैं और सिद्धि प्राप्त कर सकते हैं। तीन पत्तियों वाले बिल्व पत्र में अखंड बिल्व पत्र भी प्राप्त हो जाते हैं। कभी-कभी एक ही वृक्ष पर चार, पांच, छह पत्तियों वाले बिल्व पत्र भी पाए जाते हैं। परंतु ये बहुत दुर्लभ हैं।
10 छह से लेकर 21 पत्तियों वाले बिल्व पत्रये मुख्यतः नेपाल (nepal) में पाए जाते हैं। पर भारत (india) में भी कहीं-कहीं मिलते हैं। जिस तरह रुद्राक्ष कई मुखों वाले होते हैं उसी तरह बिल्व पत्र भी कई पत्तियों वाले होते हैं।
11 श्वेत बिल्व पत्र जिस तरह सफेद सांप, सफेद टांक, सफेद आंख, सफेद दूर्वा आदि होते हैं उसी तरह सफेद बिल्वपत्र भी होता है। यह प्रकृति (nature) की अनमोल देन है। इस बिल्व पत्र के पूरे पेड़ पर श्वेत पत्ते पाए जाते हैं। इसमें हरी पत्तियां नहीं होतीं। इन्हें भगवान शंकर को अर्पित करने का विशेष महत्व है।
12 कैसे आया बेल वृक्षबेल वृक्ष की उत्पत्ति के संबंध में ‘स्कंदपुराण’ में कहा गया है कि एक बार देवी पार्वती ने अपनी ललाट से पसीना पोछकर फेंका, जिसकी कुछ बूंदें मंदार पर्वत (mandaar mountain) पर गिरीं, जिससे बेल वृक्ष उत्पन्न हुआ। इस वृक्ष की जड़ों में गिरिजा, तना में महेश्वरी, शाखाओं में दक्षयायनी, पत्तियों में पार्वती, फूलों में गौरी और फलों में कात्यायनी वास करती हैं।
13 कांटों में भी हैं शक्तियाँकहा जाता है कि बेल वृक्ष के कांटों में भी कई शक्तियाँ समाहित हैं। यह माना जाता है कि देवी महालक्ष्मी का भी बेल वृक्ष में वास है। जो व्यक्ति शिव-पार्वती की पूजा बेलपत्र अर्पित कर करते हैं, उन्हें महादेव और देवी पार्वती दोनों का आशीर्वाद मिलता है। ‘शिवपुराण’ में इसकी महिमा विस्तृत रूप में बतायी गयी है।
14 ये भी है श्रीफलनारियल (coconut) से पहले बिल्व के फल को श्रीफल माना जाता था क्योंकि बिल्व वृक्ष लक्ष्मी जी का प्रिय वृक्ष माना जाता था। प्राचीन समय में बिल्व फल को लक्ष्मी और सम्पत्ति का प्रतीक मान कर लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने के लिए बिल्व के फल की आहुति दी जाती थी जिसका स्थान अब नारियल ने ले लिया है। प्राचीन समय से ही बिल्व वृक्ष और फल पूजनीय रहा है, पहले लक्ष्मी जी के साथ और धीरे-धीरे शिव जी के साथ।
15 यह एक रामबाण दवा भी हैवनस्पति में बेल का अत्यधिक महत्व है। यह मूलतः शक्ति का प्रतीक माना गया है। किसी-किसी पेड़ पर पांच से साढ़े सात किलो वजन वाले चिकित्सा विज्ञान में बेल का विशेष महत्व है। आजकल कई व्यक्ति इसकी खेती करने लगे हैं। इसके फल से शरबत, अचार और मुरब्बा आदि बनाए जाते हैं। यह हृदय रोगियों (heart patients) और उदर विकार से ग्रस्त लोगों के लिए रामबाण औषधि (medicine) है।
16 यह एक रामबाण दवा भी हैधार्मिक दृष्टि से महत्त्वपूर्ण होने के कारण इसे मंदिरों (mandir/temple) के पास लगाया जाता है। बिल्व वृक्ष की तासीर बहुत शीतल होती है। गर्मी की तपिश से बचने के लिए इसके फल का शर्बत बड़ा ही लाभकारी (helpful) होता है। यह शर्बत कुपचन, आंखों की रोशनी (eye sight) में कमी, पेट में कीड़े और लू लगने जैसी समस्याओं से निजात पाने के लिए उत्तम है। औषधीय गुणों से परिपूर्ण बिल्व की पत्तियों मे टैनिन, लोह, कैल्शियम, पोटेशियम और मैग्नेशियम (magnesium) जैसे रसायन (chemical) पाए जाते हैं।
क्या हैं बेल पत्र अथवा बिल्व-पत्र?
बिल्व-पत्र एक पेड़ की पत्तियां हैं, जिस के हर पत्ते लगभग तीन-तीन के समूह में मिलते हैं। कुछ पत्तियां चार या पांच के समूह की भी होती हैं। किन्तु चार या पांच के समूह वाली पत्तियां बड़ी दुर्लभ होती हैं। बेल के पेड को बिल्व भी कहते हैं। बिल्व के पेड़ का विशेष धार्मिक महत्व हैं। शास्त्रोक्त मान्यता हैं कि बेल के पेड़ को पानी या गंगाजल से सींचने से समस्त तीर्थो का फल प्राप्त होता हैं एवं भक्त को शिवलोक की प्राप्ति होती हैं। बेल कि पत्तियों में औषधि गुण भी होते हैं। जिसके उचित औषधीय प्रयोग से कई रोग दूर हो जाते हैं। भारतिय संस्कृति में बेल के वृक्ष का धार्मिक महत्व हैं, क्योकि बिल्व का वृक्ष भगवान शिव का ही रूप है। धार्मिक ऐसी मान्यता हैं कि बिल्व-वृक्ष के मूल अर्थात उसकी जड़ में शिव लिंग स्वरूपी भगवान शिव का वास होता हैं। इसी कारण से बिल्व के मूल में भगवान शिव का पूजन किया जाता हैं। पूजन में इसकी मूल यानी जड़ को सींचा जाता हैं।धर्मग्रंथों में भी इसका उल्लेख मिलता हैं-
बिल्वमूले महादेवं लिंगरूपिणमव्ययम्।य: पूजयति पुण्यात्मा स शिवं प्राप्नुयाद्॥बिल्वमूले जलैर्यस्तु मूर्धानमभिषिञ्चति।स सर्वतीर्थस्नात: स्यात्स एव भुवि पावन:॥ (शिवपुराण)भावार्थ: बिल्व के मूल में लिंगरूपी अविनाशी महादेव का पूजन जो पुण्यात्मा व्यक्ति करता है, उसका कल्याण होता है। जो व्यक्ति शिवजी के ऊपर बिल्वमूल में जल चढ़ाता है उसे सब तीर्थो में स्नान का फल मिल जाता है।बिल्व पत्र तोड़ने का मंत्रबिल्व-पत्र को सोच-समझ कर ही तोड़ना चाहिए। बेल के पत्ते तोड़ने से पहले निम्न मंत्र का उच्चरण करना चाहिए- अमृतोद्भव श्रीवृक्ष महादेवप्रियःसदा।गृह्यामि तव पत्राणि शिवपूजार्थमादरात्॥ -(आचारेन्दु)भावार्थ: अमृत से उत्पन्न सौंदर्य व ऐश्वर्यपूर्ण वृक्ष महादेव को हमेशा प्रिय है। भगवान शिव की पूजा के लिए हे वृक्ष में तुम्हारे पत्र तोड़ता हूं।कब न तोड़ें बिल्व कि पत्तियां?*
विशेष दिन या विशेष पर्वो के अवसर पर बिल्व के पेड़ से पत्तियां तोड़ना निषेध हैं। *
शास्त्रों के अनुसार बेल कि पत्तियां इन दिनों में नहीं तोड़ना चाहिए-* 
बेल कि पत्तियां सोमवार के दिन नहीं तोड़ना चाहिए।* 
बेल कि पत्तियां चतुर्थी, अष्टमी, नवमी, चतुर्दशी और अमावस्या की तिथियों को नहीं तोड़ना चाहिए।* 
बेल कि पत्तियां संक्रांति के दिन नहीं तोड़ना चाहिए।

अमारिक्तासु संक्रान्त्यामष्टम्यामिन्दुवासरे ।बिल्वपत्रं न च छिन्द्याच्छिन्द्याच्चेन्नरकं व्रजेत ॥
(लिंगपुराण)भावार्थ: अमावस्या, संक्रान्ति के समय, चतुर्थी, अष्टमी, नवमी और चतुर्दशी तिथियों तथा सोमवार के दिन बिल्व-पत्र तोड़ना वर्जित है।चढ़ाया गया पत्र भी पूनः चढ़ा सकते हैं?शास्त्रों में विशेष दिनों पर बिल्व-पत्र तोडकर चढ़ाने से मना किया गया हैं तो यह भी कहा गया है कि इन दिनों में चढ़ाया गया बिल्व-पत्र धोकर पुन: चढ़ा सकते हैं।

अर्पितान्यपि बिल्वानि प्रक्षाल्यापि पुन: पुन:।शंकरायार्पणीयानि न नवानि यदि चित्॥ (स्कन्दपुराण) और (आचारेन्दु)भावार्थ: अगर भगवान शिव को अर्पित करने के लिए नूतन बिल्व-पत्र न हो तो चढ़ाए गए पत्तों को बार-बार धोकर चढ़ा सकते हैं।बेल पत्र चढाने का मंत्र भगवान शंकर को विल्वपत्र अर्पित करने से मनुष्य कि सर्वकार्य व मनोकामना सिद्ध होती हैं। श्रावण में विल्व पत्र अर्पित करने का विशेष महत्व शास्त्रो में बताया गया हैं। विल्व पत्र अर्पित करते समय इस मंत्र का उच्चारण करना चाहिए:
त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रिधायुतम्।त्रिजन्मपापसंहार, विल्वपत्र शिवार्पणम्
भावार्थ: तीन गुण, तीन नेत्र, त्रिशूल धारण करने वाले और तीन जन्मों के पाप को संहार करने वाले हे शिवजी आपको त्रिदल बिल्व पत्र अर्पित करता हूं।शिव को बिल्व-पत्र चढ़ाने से लक्ष्मी की प्राप्ति होती है।

शुक्रवार, 15 जुलाई 2016

HOW A COMMON MAN ( S. P. Jethlia) BECAME A PRODUCER

News on Filmsntv.com
http://www.filmsntv.com/2016/07/the-relationship-between-writer-and.html

The relationship between the writer and director is crucial, says S P Jethlia

Imagine having a dream in your life, but you find that your education, your profession and your life have taken you down on a totally different path. What do you do? Do you chuck everything you've built thus far so that you can pursue your passion? Or you just stay on course and vow to go after the dream later? Neither option is great as you have to give up something either way. Sometimes you just have to walk away from your passion.

When presented with these options, most would choose the convenient one. Most would compromise…  You would say that’s not unusual as many bury their dreams for bread and butter. Life is about compromise, right? No, you are wrong..!! As here is one person who opted for another option. He readied himself to pursue his passion along with his ambitious professional and personal life. Meet the most driven, hard-working, unusual writer-producer you will ever meet - Surya Prakash Jethlia. A tete-a-tete with this unassuming guy who is currently working on the movie release for his forthcoming romantic musical film “Meeradha”
Films & TV World: Did you always want to make a film?
Surya Prakash Jethlia: Yes, I am fan of great Legend Amitabh Bacchan sir since childhood. The very first film I have ever seen in my life was Saat Hindustani. I must have been just 7-8 years then. Early on in my career, I tended to be more interested in acting as I had a passion for acting. I have great singing interest also. I even acted on stage at school and college level. But I never thought I would get on with film making as a producer and writer. It was only later on in life that I developed a decent script on a story idea that had been in my mind for long. And then putting the right ingredients (actors, crew members) together I got involved in the process of getting it turned into a film. Maintaining that creative overview all the way through, I have now got much more interested in what makes a movie as well as the production side of it - how the money got spent and all the rest of it.
F&TV: What was the inspiration behind the making of this film?
SPJ: This film “Meeradha” is about the dream of a father, about a son, about devotion, friendship, love and several emotions of life journey. A love triangle, this is a story of a boy and two girls who are childhood friends, which turns into love as they grow young. The hero is good at heart but has a bad attitude and never cares to listen to his father’s suggestions. However, one day he accidentally finds his father’s old diary that becomes the turning point in his life and changes his life. This story idea has been core to my heart and I had always wanted to picturise this for the larger audiences as the film also conveys a social message to society to eradicate superstitions and social evils that stigmatises lives. However, its put in an entertaining manner without being preachy.
F&TV: What convinced you to make your debut as a writer producer with Meeradha?
SPJ: I had a passion for singing, acting and also being an ex lecturer, there was an inherent writing ability within me. As I have already mentioned that this story is close to my heart as I had seen such a real life situation and it had a deep impact on me. It was later with the help of my younger brother who is very creative, that I wrote Meeradha. I got some help from my facebook friends too. Once the writing was done, I was assured by Sangam Group & Ostwal Group to provide infrastructures. It was then that I was fully sure to venture ahead and follow my dream.
F&TV: So how was your first movie experience?
SPJ: It was extremely nice, irrespective of lots of hurdles, my entire team was quite cooperative, and we completed it successfully. Now, with god’s grace, the movie is almost cleared from Censor board and we are soon going to start with the publicity and promotions. And god willing, the poster of the film will be released by a celebrated personality.


F&TV: How challenging was script writing to you?
SPJ: The script is always a great challenge. You need to adapt a story in a right way and make it understandable for the audience in the cinema. At the same time, you need to keep it interesting as audiences tend to get bored pretty quickly if you do not approach this matter properly. It was necessary to introduce them in the plot in a way that kept them interested. But it seems to me that we managed to do it right.

F&TV: What were some of the challenges you faced in the making of this film?
SPJ: Being a non technical guy, I was totally dependent on the technical unit. So whatever guidance they were providing me, I had to go for that. But there was a great support to me by my film's hero "Sandesh Gour" & all my team members who worked as if it were their own movie, thus overcoming all difficulties. However a serious accident of mine, delayed the project for 6 months. However, the biggest thing within me is the go getting attitude. This made me all the more impulsive to achieve my big dream in life. And we overcame. If you have a dream, just have to go for it as there's never a perfect time, the stars will never align and the best time to start pursuing your passion is right now. My special thanks to my lead actor "Sandesh Gour". He made me feel proud as he performed so well with confidence.
F&TV: How did you zero in on Ashish Sinha as your director?
SPJ: Writing and Direction are a vital part of the creative process in any production and the relationship between the writer and the director is crucial.  However, I being the writer as well as the producer, helped quite in a way as the relationship between me and Ashish Sinha is a wonderful example of how a good director, with a unique, individual approach can shape the story into a beautiful masterpiece (film). Ashish Sinha ji’s name was suggested to me and it was only after that I saw his work, and was impressed a lot with his creativity, his way of working, nature etc. In fact, once I was through, it hardly took me anytime to finalize him. He has done a great job with even some fresher artists.

F&TV: Rajasthani movies carry subsidy. Why did you choose Hindi over Rajasthani?
SPJ: The hardest truth is that in Rajasthan there is not much scope or a good viewer base for Rajasthani Language based movies. Though the government does give subsidy, it is hardly any money. Also the recovery is not possible if you want to spend lavishly and make a good film. This was one reason that forced me to go for Hindi language. Also, I wanted to have an all India release and take the message that my movie carries far and wide. And this was possible only through Hindi.
F&TV: How involved were you in the direction process?
SPJ: I was present during the entire shooting almost all time as it’s my baby. Also being the writer of the film, at times I had to explain the importance of certain scenes and the way it had to be enacted. Or the way I wanted to get it picturised, etc. It was a bit difficult at first but I quickly learned and could thus steer the film into the right direction.
F&TV: Writing or producing – what was more stressful?
SPJ: We do know that writers are outstanding, creative and charismatic personalities. However, to be a producer, I think you’ve got to be a fairly sophisticated jack of a lot of trades and probably king of a few. I would definitely say that working as a producer is extremely stressful as you are not finished with your work until the movie is released. Sometimes it takes even longer. It's a real rollercoaster. I have great respect for filmmakers because it's really hard work, and very often thankless. But I was lucky to work with good people, from whom I could learn a lot. Real producers really love cinema. If not, they shouldn't do it.

F&TV: What was the toughest part in doing this film?
SPJ: We shot almost the whole movie in June, when the temperature was quite high in Rajasthan soaring upto 45 degrees. But my entire team co-operated a lot. Even small kids who were just 5 to 7 years and were on sets with their parents faced all those. And I’m thankful to all of them. We also had to re-shoot some scenes, which was another difficult part for me. But we had an amazing team and they were all willing to work with us and they were fully prepared to act it again for the betterment of the film! It was really great to have such a talented group of people working together. We were almost like a big family on the set.
F&TV: What sort of advice would you give to debutant producers in this industry?
SPJ: The art of producing is ‘herding all in the same direction’ just like the Pied Piper. And herding all in the same direction is the most important thing. I will say that all movies are made up of a group of personalities, usually some pretty big ones. They are made up of a lot of people with different skill bases and different opinions. A good movie always comes about when you manage to get those people working together in a smooth direction. Having said this, I will just advise that have proper financing, make all arrangements before starting any project and select the right team members, so as to complete your project beautifully and on time. 

मंगलवार, 12 जुलाई 2016

अगर आपके पास एंड्राइड फोन है तो आप घर बेठे लाखो रूपये कमा सकते है !


  नमस्कार भाईयो 
अगर आपके पास एंड्राइड फोन है तो आप घर बेठे लाखो रूपये कमा सकते है !

  प्लान बहुत अच्छा है अगर आपने समझ लिया तो नही तो आप कुछ भी नही कमा पाओगे।

सबसे बड़ी परेशनी ये होती है कुछ लोग प्लान समझते नही है काम पर लग जाते है मगर उन्हे आगे परेशनी आ सकती है।

  इसलिए प्लान को समझना ही प्लान की ताकत है प्लान क्या है बता रहा हु.


  कंपनी आपसे बस लाइफ मै एक बार 9 से 10 Application install कराती है. और आप हमारे मेंबर बन जाते हो.

प्लान के बारे मैं

👉 आपको Champcash Download करना होगा अपने फ़ोन मै play store से।

👉 उसे ओपन करके 【Sing up with Champcash】
पर क्लिक करना होगा।

👉 उसमे अपनी सारी जानकारी डाल नी होगी।

( आपका नाम)
( आपकी जीमेल)
( आपका पासवर्ड)
( आपकी बर्थडे)
( आपका whatsapp नंबर)

👉 फिर आपसे एक Refer id of Sponsor मागता है उसमे ये डालना है
🆔
4816489 👈

  अब आपको अपना challenge Accept करना है उसमे आपको एक screen आएगी उसमे Apps आएगी ।

आपके निचे दिखा रहा होगा आपको कितनी Apps अपने फोन मै डाउनलोड करना है.

नोट किया जाये आपको वो apps play store से करना है।

  जो भी आपकी apps होती है उसे ओपन ज़रूर करना है और जो होती जायेगी उसके आगे done होता जायेगा।

जब आपकी सारी apps कर लोगे आप हमारे मेंबर बन जाओगे और आपको अपनी Refer id मिलती है और आप को ($1 dollar )Rs 62 भी मिलैगे.

  अब आप कमाई करना शुरू कर देते हो।
अब आता है पैसे कमाने का स्टेप देखो आप कैसे कर सकते है कमाई टीम बना कर

7 लेवल तक पैसा आता है आपको बस 1 लेवल मै जोइनिंग करना है।

  मानो आप A हो

A ने B को ज्वाइन किया A को 50% पैसे मिले.

B ने C को ज्वाइन किया A को 10% पैसे मिले.

C ने D को ज्वाइन किया A को 10% पैसे मिले.

D ने E को ज्वाइन किया A को 10% पैसे मिले.

E ने F को ज्वाइन किया A को 10% पैसे मिले.

F ने G को ज्वाइन किया A को 5% पैसे मिले.

G ने H को ज्वाइन किया A को 5% पैसे मिले.

  इसी तरहा आपको 7 लेवल तक पैंसा मिलता है आप लेवल 1 मै जितने चाहो उतने Friend को ज्वाइन कर सकते हो जितना चाहो कमा सकते हो।

अभी डाउनलोड करने के लिये नीचे click करे..

Click:http://champcash.com/
4816489
  Sponsor id मै ये डालना है. 4816489

My Whatsapp no.. +91-919352174466
Visit : www.champcash.top

सोमवार, 4 जुलाई 2016

साँवरिया के 100000 नीम लगाने की ये मुहिम - राजस्थान में नीम महोत्सव 03-07-2016

जोधपुर, 03 जुलाई 2016 को साँवरिया की ओर से नीम महोत्सव का आगाज हुआ जिसमे साँवरिया की अध्यक्ष डॉ नीलम मूंदड़ा, संरक्षक श्री सुनिल जी मूंदड़ा, अरुण वर्मा जी, अभिषेक शर्मा जी, महात्मा गांधी अस्पताल के डॉ पी. सी. व्यास व उनकी टीम , बिड़ला स्कूल के संथापक श्री बिड़ला जी, बीजेपी महिला मोर्चा की पूर्व अध्यक्ष श्रीमती  विनीता जी सेठ , जिलाध्यक्ष श्रीमती इंद्रा राजपुरोहित व भाजपा महिला मोर्चा के सभी सदस्यों, मारवाड़ी महासभा की मधु समदानी जी,  Geo Club International के श्री लक्ष्मण दादा, चिराग भाई व अन्य सभी सदस्यों, वीणा जी मूंदड़ा एवं श्री आनंद जोशी जी अन्य कई लोगों ने इस पुनीत कार्यक्रम में पूरे तन मन से भाग लिया और इसे सफल बनाने में पूर्ण सहयोग किया ।
इसके तहत आज दिनांक 03 जुलाई 2016 को जोधपुर स्थित राजकीय महात्मा गांधी चिकित्सालय के गर्ल्स हॉस्टल प्रांगण में 11 नीम लगाकर एवं बी.आर.बिडला स्कूल के प्रांगण में 10 नीम के पौधे लगाकर इसकी शुरूआत की गई ।

साँवरिया के अध्यक्ष डॉ. नीलम जी का कहना है की प्रकृति हमे कितना कुछ देती है अब हमारी बारी है प्रकृति  के प्रति अपने कर्तव्य को पूरा करने की
इस हेतु डॉ. नीलम जी मूंदड़ा ने साँवरिया के 100000 नीम लगाने की ये मुहिम की शुरुवात की है जो की पूरे राजस्थान में नीम महोत्सव के रूप में मनाया जाएगा,

 साँवरिया के संस्थापक श्री कैलाशचन्द्र लढ़ा  ने साँवरिया और साँवरिया के पूरी टीम की और से सभी सहयोगी संस्थाओं और सदस्यों को धन्यवाद देते हुए आभार व्यक्त किया
एवं उन्होंने आव्हान किया पूरे देश और राजस्थान की सभी संस्थाओं का "आओ मिलकर पूरे प्रदेश के हर घर से हर व्यक्ति का इस नीम महोत्सव में योगदान होना चाहिए" पूरे प्रदेश में हरित क्रांति की शुरुवात करे| हर घर से हर व्यक्ति द्वारा एक पेड़ किसी भी रूप में पर्यावरण और प्रकृति के लिए लगाइए | " नीम महोत्सव" की शरुवात हर घर से करनी होगी | विभिन्न संस्थाओं द्वारा जो रक्तदान शिविर में जो रक्तदाताओं के सम्मान के लिए उपहार में नीम देना शुरू करे | विभिन्न समारोहों में अतिथियों के सम्मान और स्वागत सत्कार के लिए मोमेंटो की बजाय एक पौधा देकर सम्मानित करे| हिन्दू परिवार के घरों में जो करवा चौथ या अन्य तीज त्योंहारों पर जो नीम की टहनी तोड़कर उसकी पूजा की जाती है इसकी बजाए हर महिला द्वारा एक नीम का पौधा लेकर उसकी पूजा करे और पूजन के पश्चात उस नीम को अपने हाथ से लगाए इससे हर त्योंहार और हर वर्ष नीम और पेड़ों का सम्मानपूर्वक रोपण हो सकेगा | घर के बड़े बुजुर्गो के हाथ नीम से लगवाए ताकि उनकी यादें हमेशा पेड़ों के रूप में हमारे साथ रहेगी | बच्चों के हाथ से बचपन में नीम लगवाए और उसे अपने परिवार के सदस्यों की तरह पाले | अपने जन्मदिन पर हर वर्ष एक नीम लगाए उसे अपनी जिंदगी के उस वर्ष की यादो के साथ याद रखिये| जिस तरह से देश में रक्तदान को एक कर्तव्य और पुनीत कार्य के रूप में हर संस्था और व्यक्ति अपना रहा है वैसे ही "नीम महोत्सव" को भी समाज और देश में परम्परा के रूप में विकसित करना चाहिए|  "अपने लिए तो सभी जीते हैं कभी दूसरों के लिए जीकर देखो"

साँवरिया की अध्यक्ष डॉ नीलम जी ने बताया की भविष्य में सांवरिया का उद्देश्य सम्पूर्ण भारत में गौमाता, गरीबों, दीन दुखियों, असहाय एवं निराश्रितों के उत्थान एवं विकास, निर्धन कन्याओं के पालन पोषण व घर बसाने में सहयोग , भूखे को भोजन व रोजगार उपलब्ध कराने हेतु प्रशिक्षण केंद्र, गौशाला, निःशुल्क अस्पताल, अनाथालय, वृद्धाश्रम, गुरुकुल, अखण्ड भोजनशाला जैसे  उपक्रमों की स्थापना करने का है |


Jai Shree Krishna

Thanks,

Regards,

कैलाश चन्द्र  लढा(भीलवाड़ा)
www.sanwariya.org
sanwariyaa.blogspot.com 
Page: https://www.facebook.com/mastermindkailash
Website : www.sanwariya.org

copy disabled

function disabled